Meerut

मेडिकल कॉलेज के गैस्ट्रोइंटेस्टाइनोलाजी सर्जरी विभाग के डॉ शिबुमोन ने इसोफैगस रिकंस्ट्रक्शन सर्जरी कर मरीज की जान बचाई

मेरठ : मेडिकल कॉलेज के डॉ वी डी पाण्डेय ने बताया कि 21 वर्ष के मरीज वजन 36 किलो ने जहरीला पदार्थ पी लिया था जिस कारण उसका इसोफेगस सिकुड़ गया था तथा एक दम बन्द हो गयी थी। मेडिकल कालेज के लिए यह केस चुनौती पूर्ण था सुर्जरी विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ सुधीर राठी ने डॉ शिबू मोन एवम डॉ धीरज राज बालियान, डॉ अभिषेक सिंह राठौर की टीम का गठन किया जो इस जटिल एवम गम्भीर सर्जरी की जिम्मेदारी दी।

14 सितंबर 22 को सुर्जरी विभाग के गैस्ट्रो सर्जन डॉ शिबू मोन, जनरल सर्जन डॉ धीरज राज बालियान, डॉ अभिषेक सिंह राठौर एवम अनेस्थेसियोलॉजीस्ट डॉ विपिन धाम, डॉ संगीता और उनकी टीम ने मरीज के इसोफेगस की तीन एनास्टमोस्टिक सफल सुर्जरी की जिसमे मरीज के इसोफेगस को बायीं तरफ की बड़ी आंत से,इसोफेगस को स्टमक से जोड़ कर एक सफल एवम जटिल सुर्जरी की। सुर्जरी कुल 5 घण्टे चली मरीज अब स्वस्थ है तथा अपने से खा पी रहा है तथा दैनिक दिन चर्या के कार्य स्वंय कर पा रहा है।

प्रधानाचार्य डॉ आर सी गुप्ता ने सुर्जरी विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ सुधीर राठी गैस्ट्रो सुर्जन डॉ शिबुमोन तथा जनरल सर्जन डॉ धीरज राज बालियान, डॉ अभिषेक सिंह राठौर एवम अनेस्थेसियोलॉजीस्ट डॉ विपिन धाम, डॉ संगीता तथा उनकी पूरी टीम को सफल ऑपरेशन के लिए बधाई दी।

Munish Kumar

Munish is a senior journalist with more than 18 years of experience. Freelance photo journalist with some leading newspapers, magazines, and news websites, has extensively contributing to The Times of India, Delhi Times, Wire, ANI, PTI, Nav Bharat Times & Business Byte and is now associated with Local Post as Editor

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button